अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जंगल की इज़्ज़त 

सारा आदिवासी समुदाय फ़ॉरेस्ट ऑफ़िसर के अत्याचारों से कराह रहा था। वो जब भी जंगल में राउंड मारने आता, तब ही उसे एक नई लड़की चाहिए होती। जंगल की इज़्ज़त ख़तरे में पड़ गई। इस बार उसकी नज़र हिरनो पर पड़ी। हिरनो साँवली ज़रूर थी, पर उसके जैसा सुंदर - भरा हुआ बदन शायद ही पूरे आदिवासी समुदाय की किसी लड़की का हो। उसकी सुंदरता पर लट्टू होकर ही फ़िल्म निर्माता रघुवर कपूर ने उसे अपनी आगामी फ़िल्म ऑफ़र की थी, परन्तु हिरनो अपना गाँव नहीं छोड़ना चाहती थी और इसी वज़ह से उसने रघुवर कपूर का ऑफ़र ठुकरा दिया। ख़ैर रघुवर कपूर अपना प्रोजेक्ट पूरा करके मुंबई चले गये और जाते-जाते अपना कार्ड दे गये, ताकि जब कभी हिरनो का मन फिरे तो वह सीधे मुंबई चली आये। लेकिन हिरनो का मन कभी फिरा नहीं।

देर रात चार-पाँच जल्लाद खाकी पहने, नक़ाब से चेहरा ढके हिरनो की झोपड़ी में कूद गये और उसे जबरन उठाकर फ़ॉरेस्ट ऑफ़िसर के सामने पटक दिया। सारी रात सरकारी गैस्ट हाउस हिरनो की दर्दभरी चीखों से गूँजता रहा। सुबह उसकी लाश झरने के पानी में तैरती हुई देखी गई. . .।

पुलिस रिकार्ड के अनुसार, हिरनो जब झरने से पानी लेने गई होगी तब उसका पैर फिसल गया होगा और वो गहरे पानी में चली गई होगी। इस तरह पानी में डूबने से उसकी मृत्यु हो गई। और इसी के साथ हिरनो की फ़ाइल बंद हो गई। न जाने ऐसी कितनी अनगिनत हिरनो सरकारी फ़ाइलों में दबकर दफ़न हो चुकी हैं। 

लेकिन जंगल की इज़्ज़त के साथ यह खेल आज भी अनवरत चल रहा है और पता नहीं ये कब तक चलता रहेगा. . .।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं