अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मंत्रीजी का योग 

सुबह के आठ बज चुके थे परन्तु मंत्रीजी अभी भीऔंधे मुँह बिस्तर पर पड़े-पड़े अजीबो-ग़रीब आवाज़ें निकाल रहे थे। तभी उनका निजी सहायक आ धमका -
"सरजी-सरजी!  आठ बज गए और आज विश्वयोग दिवस का कार्यक्रम है। आपको मुख्य योगाचार्य की भूमिका निभाने जाना है।"

मंत्रीजी रेलगाड़ी वाले हॉर्न बजाते हुए उठ बैठे। आलस्य भरी जम्हाइयाँ लेते हुए बोले - "अरे सम्पत! तुम भी सुबह-सुबह आ जाते हो, ठीक से सोने भी नहीं देते। तुम्हें तो पता ही है रात देर तक जागना पड़ा, सांसद भोज का आयोजन जो किया था।"

"वो सब तो ठीक है, लेकिन सोशल मीडिया पर लोग आपके इस आयोजन को मृत्युभोज बता रहे हैं," सम्पत कुछ डरते हुए बोला।

"पर...  हमने तो अपने ख़रीदे मीडिया को बिहार भेज दिया था, अपने पक्ष में ख़बर दिखाने के लिए," मंत्रीजी कुछ चिन्तित होते-होते हुए बोले।

"लोगों ने तो आपके भेजे मीडिया को गिद्ध घोषित कर दिया... गिद्ध!"

"क्या बकते हो?" मंत्रीजी लाल-पीले होते हुए सम्पत पर चिल्ला पड़े।

झिझकते-हकलाते हुए जी-हज़ूरी वाले लहज़े में सम्पत बुदबुदाया - "अरे साहबजी... लघु मीडिया ने मरते बच्चों की तस्वीरें उजागर कर दीं और वे यहीं नहीं रुके; रोते-चीखते, बिलखते माँ-बाप की तस्वीरें भी देश-दुनिया को दिखा दीं। लोगों में ग़ुस्सा है।"

"हुँ... ग़ुस्सा है, जब तक वोट देने का समय आयेगा, सब भूल जायेंगे," मंत्रीजी कुटिल हँसी हँसते हुए बोले।

"अच्छा ठीक है, ये बस तो चलता रहा है, चलता रहेगा, ग़रीब हैं, मेरा ज़्यादा से ज़्यादा क्या कर लेगें, दो-चार गाली देंगे अपनी झोपड़ियों में बैठकर। सब बेकार की बातें छोड़ो... योग करने जाना है। हम तैयार होते हैं।"

मंत्रीजी के योग की देश-दुनिया के न्यूज़ चैनलों, बड़े-बड़े समाचार पत्रों और ख़ासकर मंत्रीजी के चैले-चपाटों ने ख़ूब सराहना की।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं