अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विधायकजी की सिफ़ारिश 

गाँव के ही दबंग टपल्लू से बचनराम का खेत की मेड़ को लेकर विवाद क्या हुआ, बेचारे बचनराम को हवालात की हवा खानी पड़ गई। वैसे थानेदार साहब ने बचनराम पर दया दिखाते हुए, दो हज़ार की दक्षिणा माँगी थी और मामला गाँव में ही सुलटा देने को कहा पर बचनराम पर तो नोन (नमक) तक ख़रीदने के लिए दस रुपये जेब में न थे, इसीलिए वो दो हजार की रक़म कहाँ से देता। और इसीका नतीजा अब वो हवालात में बंद होकर भुगत रहा था।

बचनराम थाने की कोठरी (हवालात) में बैठा-बैठा सोच रहा था, काश वह टपल्लू से कुछ न कहता, फिर चाहे उसका आधा खेत ही वो टपल्लू क्यों न जोत लेता...। तभी उसे कल वाली बात याद आ गई। गाँव में विधायक जी चुनाव प्रचार के लिए आये थे, उससे भी बात की थी। विधायक जी ने और एक कार्ड भी दिया था, यह कहते हुए - जब भी कोर्ट-कचहरी, थाने-वाने का लफड़ा बने, बेहिचक रात के बारह बजे मुझे फोन करना, उसी वक़्त मदद को हाज़िर हो जाऊँगा पर बस कृपा दृष्टि बनाये रखना...।

बचनराम ने अपने फटे कुर्ते की जेब टटोली... कार्ड मिल गया। कार्ड दिखाते हुए बचनराम थानेदार साहब से गिड़गिड़ाया। थानेदार जी ने कार्ड बचनराम के हाथ से छीन लिया और एकांत में चले गये।

"हैलो सर, नमस्ते सर... सर ! एक मुर्गा है बचनराम नाम है उसका। आपका कार्ड दिखा रहा है। क्या करूँ उसका...?"

"छोड़ दो... चार-छ: डंडे जमा के... वोट बैंक है।"

कुछ देर बाद बचनराम अपनी पीठ सहलाते हुए बाहर आ गए...  पर वे ख़ुश थे कि विधायक जी की सिफ़ारिश ने उन्हें हवालात से आज़ाद करा दिया। पीठ लाल तो टपल्लू से झगड़ा करने के कारण हुई है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं