अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

माहवारी

मेरे प्यारे सखा मासिक,
तुम महीने में पाँच दिन आते हो।
सचमुच तुम मुझे,
कितना रुलाते हो।
हड्डियों के टूटने जैसी,
यातनाएँ दे जाते हो।
ये कैसी विडबंना है,
तुम मुझे अपवित्र बना जाते हो।


रसोई हो या पूजाघर,
हर जगह जाना निषेध करवाते हो।
इस पीड़ा के वक़्त भी तुम,
ज़मीन पर सोना अनिवार्य करवाते हो।
जिस रक्त से बनी पूरी मानव सृष्टि,
उसी रक्त के बहने पर,
मुझे अछूत ठहराते हो।


में जानती हूँ मेरे सखा मासिक,
तुम क्यो हर महीने आते हो।
नारी होने का असली सम्मान,
एक तुम ही तो मुझे दिलवाते हो।
सामान्य स्त्री से मातृत्व सुख की,
तुम अनुभूति करवाते हो।
संसार की हर नारी को तुम,
नव सृजन का आधार बनाते हो।


लेकिन मेरे सखा मासिक,
क्यों तुम समाज को,
ये बात नहीं समझाते हो?
माहवारी आना सौभाग्य है,
कोई बीमारी नहीं।
जिसे सबसे छुपाते हो।
क्यो खुलेआम इसका नाम लेने पर,
स्त्रीयो को लज्जाहीन ठहराते हो ?
क्या ये समाज नहीं जानता,
इसी माहवारी से तुम मनुष्य जन्म पाते हो?


मेरे सखा मासिक, तुम पूछो समाज से,
आख़िर क्यों ख़ून से बने 
नवजात शिशु को सीने से लगाते हो?
उसके जन्म की ख़ुशख़बरी,
क्यों नगाड़े बजाकर समाज को दिखाते हो?
स्त्री के ख़ून को अपवित्र कह कर,
क्यो उसी के ख़ून को अपना नाम दे जाते हो?
बताओ जब माहवारी से हुई स्त्री अपवित्र है,
तो क्यों उसकी सन्तान को 
कुल का दीपक बनाते हो?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं