अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मंज़िल चाहें कुछ भी हो

मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।
 
कैसे भी हो हालात मगर,
अपना हर फ़र्ज़ निभाते जाना।
बहना तुम एक दरिया सा,
अवसाद किनारे लगाते जाना।
 
मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।
 
बनना तुम एक चट्टान कभी, 
सहारा बेसहारों का बन जाना।
मुश्किलों में मुस्कुराना ऐसे,
जैसे झरनों से जल का बह जाना।
 
मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।
 
धैर्य ख़ुद में इतना रखना की,
तुम एक मज़बूत बाँध बन जाना।
तक़दीर जो भी तुम्हे सौगात दे,
उसे बेहतरीन बनाते जाना।
 
मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।
 
लड़ना तुम अपने हक़ के लिए,
कभी ख़ुद से जंग कर जाना।
जीत होगी तुम्हारे स्वाभिमान की,
तुम बस कोशिश करते जाना।
 
मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।
 
मन चाहा मिलेगा सदैव,
ऐसी चाहत न ख़ुदा से लगाना।
जितना नसीब हुआ है तुम्हें,
बस उसे ही हमेशा सहेजते जाना।
 
मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।
 
ज़रूरी नहीं हमेशा रहे साथ कोई,
तुम ख़ुद को इतना क़ाबिल बनाना।
चलना, गिरना, दौड़ना फिर उठना,
लेकिन अपना जुनून कभी न गँवाना।
 
मंज़िल चाहे कुछ भी हो,
अपना किरदार निभाते जाना।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं