अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बन सौरभ तू बुद्ध

मतलबी संसार का, कैसा मुख विकराल
अपने पाँवों मारते, सौरभ आज कुदाल
 
सिमटा धागा हो सही, अच्छे हैं कम बोल
सौरभ दोनों उलझते, अगर रखे ना तोल
 
काँप रहे रिश्ते बहुत, सौरभ हैं बेचैन
बेरूखी की मार को, झेल रहें दिन-रैन
 
ज़हर आज भी पी रहा, बनता जो सुकरात
कौन कहे है सत्य के, बदल गए हालात
 
दिला गयी है ठोकरें, अपनों का अहसास
सौरभ कितने साथ है, कितने ख़ासमख़ास
 
होते कविवर कब भला, वंचित और उदास
शब्दों में रस गंध भर, संजोते उल्लास
 
विचलित करते है सदा,मन मस्तिक के युद्ध
अगर जीतना स्वयं को, बन सौरभ तू बुद्ध

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अक़्सर ये है पूछता, मुझसे मेरा वोट
|

  पंचायत लगने लगी, राजनीति का मंच।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं