अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मस्ती का दिन  

रविवार को पापा दफ़्तर नहीं जाते। मुझे पकड़कर देर तक सोए रहते हैं। हम साथ-साथ खेलते हैं। खाते हैं। चित्र बनाते हैं।

पापा मुझे पार्क ले जाते हैं। वहाँ बहुत सारे पेड़ हैं और आस-पास ढेर सारी गिलहरियाँ। मैं उनके पीछे-पीछे भागती हूँ। पापा उसे दाना देते हैं तो वे झट से हमारे पास आ जाती हैं।

मुझे रंग-बिरंगी तितलियाँ देखना भी बहुत पसंद हैं। फूल के पौधों पर वे बैठी रहती हैं । मैं हाथ बढ़ाती हूँ तो झट उड़ जाती हैं।

कभी पापा मछली घर ले जाते हैं तो कभी गुड़िया घर। कभी चिड़िया घर तो कभी बड़े से खुले मैदान में। स्कूटी में मैं पापा को ज़ोर से पकड़कर बैठती  हूँ , मम्मी मुझे . . .

तालाब में बड़ी मछलियाँ होती हैं। जब मैं आटे की गोली फेंकती हूँ तो वह लपक कर मुँह में ले लेती है। वह सोया बड़ी भी खाती है। फिर गुडुप से पानी के भीतर!

लाल-पीली, सुनहरी–नीली छोटी मछलियाँ शीशे के बंद घरों में रहती हैं।

चिड़ियाघर में तो कितने सारे जानवर और रंग-बिरंगी चिड़िया भी! मगर वे पिंजड़े में बंद मुझे अच्छे नहीं लगते।

मुझे गुड़िया घर जाना अच्छा लगता है। सजी-धजी गुड़ियाँ! सुंदर-सुंदर ! मैं उनसे बातें  करती हूँ तो मम्मी-पापा हँसते हैं।

बड़े वाले पार्क में बड़ा-सा मैदान है। मैं वहाँ खूब दौड़ लगाती हूँ। बहुत मज़ा आता है। 

मुझे इंतज़ार रहता है रविवार का . . .

आज रविवार है! मेरी मस्ती का दिन!! हुर्रेऽऽऽऽ!! 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

......गिलहरी
|

सारे बच्चों से आगे न दौड़ो तो आँखों के सामने…

...और सत्संग चलता रहा
|

"संत सतगुरु इस धरती पर भगवान हैं। वे…

 जिज्ञासा
|

सुबह-सुबह अख़बार खोलते ही निधन वाले कालम…

 बेशर्म
|

थियेटर से बाहर निकलते ही, पूर्णिमा की नज़र…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

पुस्तक समीक्षा

अनूदित कविता

शोध निबन्ध

लघुकथा

यात्रा-संस्मरण

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं