अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पलायन

मेहता दम्पति पुराने शहर का अपना मकान बेचकर शहर के पॉश इलाके में रहने आ गयी, यह सोचकर कि इस इलाके में पानी/बिजली की अच्छी व नियमित सेवायें मिला करेंगी जो कि पुराने शहर में नहीं थीं।

कुछ समय बाद शहर में बिजली कटौती शुरू हो गई जो पहले पुराने शहर के इलाकों में होती थी। फिर यह निर्णय हुआ कि झुग्गी झोपड़ियों में बहुत बिजली चोरी की जाती है अतः इन इलाकों में भी कटौती की जाये। मेहता दंपति का नया आशियाना था तो पॉश इलाके में परंतु पास में झुग्गियों का समूह होने से यहाँ भी कटौती प्रारम्भ हो गई। अब वे पुनः परेशान रहने लगे। चार-चार घंटे की कटौती से परेशान होकर साल भर बाद उन्होंने एक नयी बन रही टाऊनशिप में मकान लेकर पुनः घर गृहस्थी शिफ्ट कर ली। अब वे तसल्ली में थे। कुछ दिन सब ठीक चलता रहा परंतु यह क्या? छह माह बाद इस टाऊनशिप के पास खाली पड़ी सार्वजनिक जगह में कुछ झुग्गियों को प्रशासन ने इलाके में अतिक्रमण की कार्यवाही के बाद विस्थापन के तौर पर बसाने का निर्णय ले लिया।

मेहता दंपति अब पुनः विद्युत कटौती की पीड़ा से बचने के चक्कर में उसीकी लपेटे में आ गये थे।

सीख

"पलायनवाद किसी भी समस्या का स्थायी समाधान नहीं हो सकता है।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

आत्मकथा

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं