अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रिय मित्रो,

दो सप्ताह का अंतराल कितना कुछ बदल देता है! आज का सम्पादकीय बहुत भारी मन से लिखने बैठा हूँ। कितना लिख पाऊँगा – मालूम नहीं। 

कोरोना की विभीषिका चरम पर है। प्रतिदिन सुबह कंप्यूटर पर व्हट्सएप या फ़ेसबुक को खोलते हुए सहम जाता हूँ कि आज न जाने किसके बिछुड़ने का समाचार मिलेगा। हिन्दी साहित्य की विभिन्न विधाओं के युगपुरुष इस महामारी की ज्वाला में विलीन हो रहे हैं। समय पर जाना तो सभी को है परन्तु इस तरह से लोगों का चले जाना विछोह की पीड़ा के साथ-साथ हताशा भी दे जाता है। अंततः प्रकृति के समक्ष मानव के बौनेपन की समझ आने लगती है। प्रायः ऐसे समय में मानव, विपदा का दोष किसी न किसी के माथे मढ़ना चाहता है। संभवतः यह स्व को सुरक्षित रखने की प्रक्रिया है या हमारी समझ की अक्षमता कि जो हमारे नियंत्रण में नहीं है, उसका होना ही अवश्य किसी का दोष होगा। इस अवस्था में पीड़ा, हताशा के साथ द्वेष, घृणा और क्रोध भी हमारी मानसिकता पर हावी होने लगता है। हमें इस काल में ऐसी भावनाओं से  बचना होगा। यह भाव सृजन को भी इस ज्वाला में स्वाह कर देगा। इससे बचने के लिए अध्यात्म ही एक मात्र शरण है। जो हुआ सो हुआ, पीड़ा है तो है, सहनशक्ति भी तो मानव के होने का अंश है। स्वीकार है प्रभु – सब स्वीकार है! तुमने जीवन का उपहार दिया है तो मृत्यु भी तुम्हारी ही रचना है। स्वयं को सुरक्षित रखने के साधन भी तुम्हारी देन हैं, और उनका सही उपयोग करना हमारा कर्तव्य है। इस युद्ध में विवेक ही हमारा कवच है। स्व और स्वजनों की सुरक्षा ही धर्म है। नियमों का पालन ही एक मात्र उपाय है। 

पिछले दिनों जिन साहित्यकारों को खोया है, उनको  विनम्र श्रद्धांजलि के साथ ही इस लघु-सम्पादकीय को विराम देता हूँ। शब्दों और भाव-सम्प्रेषण की भी एक सीमा होती है और संभवतः मैं वहाँ पहुँच चुका हूँ।

— सुमन कुमार घई

टिप्पणियाँ

Suman Gupta 2021/05/12 02:36 AM

sach kaha. Bhay havi hai logon par.

Sarojini pandey 2021/05/08 02:58 PM

संवेदनशील, भावुक,एवं विचारणीय

पाण्डेय सरिता 2021/05/08 12:42 PM

समसामयिक संदर्भ में संक्षिप्त और सारगर्भित लेख

राजनन्दन सिंह 2021/05/07 04:19 PM

माननीय, इस अंक की लघु संपादकीय मुझे लगता है अन्य सभी अंकों के संपादकीय से बड़ी है। कहे गये शब्दों /वाक्यों से भी आभास हो जाता है कि लेखक कुछ और भी कहना चाहता था जो स्पष्ट कारणवश कहना जरुरी नहीं समझा या कहा नहीं गया। "प्रतिदिन सुबह कंप्यूटर पर व्हट्सएप या फ़ेसबुक को खोलते हुए सहम जाता हूँ कि आज न जाने किसके बिछुड़ने का समाचार मिलेगा। हिन्दी साहित्य की विभिन्न विधाओं के युगपुरुष इस महामारी की ज्वाला में विलीन हो रहे हैं।" इन दो हीं पंक्तियों में कोरोना त्रासदी का संपूर्ण दर्द समाहित है और वह सब कुछ कह दिया गया है जो कि एक बड़े से बड़े आलेख में भी कहा जा सकता था। सादर

Hari Lakhera 2021/05/07 01:28 AM

सच में समाचार बहुत दुखद मिल रहे हैं।

कृपया टिप्पणी दें

सम्पादकीय (पुराने अंक)

2021

2020

2019

2018

2017

2016

2015