अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राम ही राम 

सिया राम मैं सब जग जानी 
करहऊं प्रणाम जोर जुग पानी।
ऐसे राम हैं जगत के राम,
राम गुरु, राम ही माता,
राम पिता, बंधु, साईं राम। 
 
राम प्राण प्रिय जीवन जी के,
भक्तों के राम —
रावण के मन बसते राम
बाली के बल में है राम 
जीवन के हर काम में, राम ही राम, 
राम ही राम राम ही राम।
भोजन करते राम राम,
काम करते राम राम,
नहाते राम, धोते राम, गाते राम,
हँसते राम,रोते राम– अरे राम 
(क्या कर डाला राम)।
जीवन राम, मरण है राम –
राम नाम सत्य है/ सत् है,
तन में राम,मन में राम,
सुख में राम, दुख में राम, 
(हाय-हाय क्या कर डाला राम) 
दुआओं में हैं राम राम।
नफ़रत में भी राम हैं, 
(राम करे तेरा बेड़ा गरक हो)
घर का सेवक राम ग़ुलाम। 
 
राम ही केवल राम राम —
घर में जन्मे राम राम, 
बालक अपना राम प्यारा, 
सूरत इसकी राम राम
इस पर पर रीझे राम सकल ,
राम सरल है बिल्कुल साधो राम, 
लाखों में अपना एक राम, 
राम नगीना,राम रतन है राम धनी, 
अपना लाल तो राम समान। 
 
जीवन चर्या राम के नाम - 
ठुमकते राम, मचलते राम, चलते राम,
गिरते राम, सँभलते राम, 
राम जिआवन राम खिलवान,
अनेक नाम धराते राम,
पढ़ते राम, लिखते राम, 
राम लेखी राम राम, 
याद धराते राम ही राम। 
पल पल के साथी हैं अपने राम,
न कोई ऊँचा न कोई नीचा 
कोल किरात भील, बनवासी, 
कंद मूल फल खाये राम, 
भक्ति भाव - प्रेम के प्यारे हैं अपने  राम, 
झूठे बेर भिलनी के खाये राम,
ऐसे अपने प्रेम पियारे राम। 
 
राम कृपा ने पत्थर तारे, 
सब सम्प्रदायों में द्वंद्व समास हैं—
 
राम सेतु हैं सम्प्रदान राम - 
रंगास्वामि पेरुमाल राम,
राम के ईश हैं रामेश्वरम राम,
दक्षिण में शिव राम बिराजें, 
काशी में बसते शिवशंकर राम, 
सब रटते सब साईं राम,
राम जी करें भला, कहते साईं राम। 
भक्तों के भक्त हैं अपने राम,
तुलसी के राम, जायसी, रसखान, क़ुत्बन,
रैदास के साधो राम,
रामानन्द, नामदेव, ज्ञानेश्वर,
तुकाराम के राम बने हैं राम दास। 
सबके अपने अपने राम - 
सगुणों के राम रामानुज, तो कण में बिराजें -
कबीर के निर्गुणियाँ राम,
कण कण में बसते अपने राम। 
गंगा राम, जमुना राम,
जड़ चेतन सब राम राम, 
राम अनादि, राम अनंता,
राम की रचना राम ही जाने, 
घट घट बासी अपने राम, 
पाले, पोसे और संहारे, 
मुक्ति दाता नर हरि राम ,
अनिकेत, अविनाशी,बअसीम,
दिग दिगंत नर-नारायण राम। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

यात्रा-संस्मरण

आप-बीती

ललित निबन्ध

वृत्तांत

लघुकथा

कहानी

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं