अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गाँव - पहले वाली बात

इतनी जल्दी बदल गये
कैसे अपने जज़्बात?
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।
1.
ननद और भौजाई जहाँ
मिल गीत फागुनी गाती थी,
गालों पर एक दूसरे के ख़ूब
अबीर गुलाल लगाती थी,
स्वास्तिक और तोरण से
जहाँ द्वार सजाये जाते थे,
टेसू के फूल बाज़ारों से
घर-घर में मँगाये जाते थे,
हर उपले में रहती थी
अजिया के हाथों की छाप।
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।
2.
कोतिया और मैना बैलों
की जोड़ी खूब सुहाती थी,
गले में बँधे घुँघुरूओं से
रुनझुन-रुनझुन ध्वनि आती थी,
गौशाला की बदौलत घर में
दूध दही की बहारें थी,
मटकी और मथानी की
आँगन में लगी कतारें थी,
सिंहनी के दाँतों को गिनने की
हर बच्चे में थी औक़ात।
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।
3.
बुज़ुर्गों के तन का पहिनावा
खादी कुर्ता और धोती थी,
शान तथा समृद्धि की सूचक
सदरी टोपी होती थी,
शाम ढले चौबारे में जो
मेहमान कभी आ जाते थे,
अतिथि देवोभवो के
भावों से पूजे जाते थे,
स्वागत और सत्कार में
उनके कट जाती थी रात।
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।
4.
तिथि त्योहार मनाने में
वो लोग कहाँ कुछ पीछे थे,
अलग-अलग रह करके भी
सब मिलकर एक बग़ीचे थे,
नोन तेल की अदला बदली
पड़ोसियों से की जाती थी,
बिन डेढ़ी और सवाई के
सारी बस्ती ख़ूब खाती थी,
लेन देन में कभी नहीं
रहती थी ब्याज की बात।
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।
5.
चार पीढ़ियाँ मिलकर जहाँ
एक साथ रह लेती थीं,
छोटी मोटी बातें आपस
कह सुन और सह लेती थीं,
सास और बहुओं के पहले
कितने मधुर स्वाभाव थे,
एक दूसरे के दिलों में
दोनों के लिये लगाव थे,
नन्ही गुड़िया के आने पर
बँटती थी घर में सौगात।
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।
6.
नूपुर और महावर क्यों
अब दिखते नहीं पाँव में?
अलगाव की बात कहाँ से
आयी अपने स्वाभाव में?
क्या किसी को ऐसी उम्मीद
इस पढ़ी लिखी पीढ़ी से थी?
क्या ऊँचाई पर चढ़ने की
सोच इसी सीढ़ी से थी?
पश्चिम ने पूरब पर "अमरेश"
किया कुठाराघात॥
नहीं रही अब गाँव में
वो पहले वाली बात।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता-मुक्तक

कविता

कहानी

नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं