अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वो ही जो हमेशा जीत जाते हैं

हिन्दी राइटर्स गिल्ड की 13 फरवरी की गोष्ठी में पंकज शर्मा जी ने कविता पढ़ी जिसके अंत में था कि "बिहारी जी ही जीतते हैं"। तब मुझे यह भूली-बिसरी बात याद आ गई।

बात 2002 की है, हम सेंटडियगो अपनी बेटी दामाद के यहाँ गये हुए थे। उनकी बेटी वसुधा करीब 7 वर्ष की थी। वह मोंस्टरस (Monsters) से बहुत डरती थी। उसे सपने में मोंस्टर बहुत डराते थे। शायद स्कूल में बच्चे मोंस्टर की बहुत बात करते हैं। मोंस्टर अच्छे-बुरे (गुड-बैड) होते हैं। हम वृंदावन से बांके-बिहारी की बड़ी फोटो लाये थे। हमने उसे वसुधा के कमरे में टाँग दिया। हमने वसुधा को समझाया कि जब भी डर लगे तब बिहारीजी से कह देना वो सब मोंस्टरस को मार भगायेंगे। अब वो ऐसा करने लगी, जिससे उसने मोंस्टरस से डरना कम कर दिया।

यहाँ के हिसाब से वो अपने कमरे में अकेले ही खेलती थी। उसके मम्मी-पापा दोनों जॉब करते थे। एक दिन जॉब से जब उसकी मम्मी घर आईं तो वह ऊपर से दौड़ती नीचे आई, मम्मी ने पूछा, "कमरे में क्या कर रही थी?"

उसने कहा, "खेल रही थी।"

मम्मी ने फिर पूछा, "किसके साथ?"

वसुधा ने कहा, "बिहारी जी के साथ।"

मम्मी ने यूँ ही पूछ लिया, "कौन जीता?"

वसुधा ने जबाब दिया, "वो ही जो हमेशा जीत जाते हैं।"

हम सब आवाक् रह गये।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

खीर का अंक गणित
|

उस दिन घर में साबूदाना की खीर बनी थी। छोटी…

प्लेन में पानी ले जाने की मनाही
|

हमारी नतिनी करीना ५ वर्ष की उम्र में अपनी…

बच्चे की दूरदर्शिता
|

उन दिनों हमारा छः वर्षीय बेटा अनुज डेकेयर…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

ललित निबन्ध

कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

आप-बीती

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं