अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

होरी है……

भक्त रसखान के होली गीतों पर आधारित एक होली गीत—

अ—र- -र- -र- -र
स- र-र-र-र
होली है- -होरी है- -
अ- -र-र-र-र, स-र-र-र-र होली है, ठिठोली है।

 

जब से फागुन है आया
रंगों का पैगाम है लाया।
रंग–रंग के फूल खिले हैं
लाल, गुलाबी, नीले, पीले।
आम देखो कैसा बौराया
रंगों की मस्ती छाई-

 

अ—र- -र- -र- -र
स- र-र-र-र
होली है- -होरी है-
अ- -र-र-र-र, स-र-र-र-र होली है,ठिठोली है।

 

बृज-वासिन के अंग रँगे हैं,
मन श्यामा के प्रेम पगे हैं,
गोपी–ग्वालिन–बाला-बूढ़ी,
नार नवेली राधा प्यारी
कान्हा संग खेरें खेलें होरी।

 

अ—र- -र- -र- -र
स- र-र-र-र
होली है- -होरी है- -
अ- -र-र-र-र, स-र-र-र-र होली है,ठिठोली है।

 

लाज–शरम करे न कोई,
मलें गुलाल, भरें पिचकारी
अ—र- -र- -र- -र
स- र-र-र-र
चलें पिचकारी, भागें इधर-उधर नर-नारी,
भागम भाग में चुनरी फटी, लिपटी साड़ी सारी
ग्वाल-बाल सब हुड़दंग मचायें,
कान्हा भींजें खड़े खड़े, मन ही–मन रीझें-खीझें,
बांसुरिया मधुर बजायें,
इसी अदा पे वारे सारे गोकुलवासी।

 

अ—र- -र- -र- -र
स- र-र-र-र
होली है- -होरी है- -
अ- -र-र-र-र, स-र-र-र-र होली है, ठिठोली है।

 

आज बृज में होली रे रसिया,
होली रे रसिया बरजोरी रे रसिया
आज बृज में होलीरे रसिया
होली रे रसिया बरजोरी रे रसिया

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

ललित निबन्ध

कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

आप-बीती

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं