अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क्षत-विक्षत

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया 
की बनी स्टील की 
भारी चादरें
टिस्को की बनी 
और 
आयातित चादरें
 
    प्रौद्योगिकी, भवन निर्माण,
    आधुनिक तकनीक
    संतुष्ट हैं बहुत
    विज्ञन की प्रगति से
    मध्यवर्गीय जन 
 
    रोज़गार की है गारन्टी 
    समझौतापरस्त 
    अवसरवादियों को
    कारखाने के श्रमिकों को,
    यूनियन के दम पर 
    हैं सुविधाएँ 
 
        आनंदित हैं चतुर बुद्धिजीवी 
        राजनीति, विज्ञान और 
        कला के व्यवसाय से
 
        समाज का ढाँचा खड़ा हो गया है
        आर सी सी फ़ाउंडेशन पर
        अनेक परीक्षणों के बाद
 
आश्वस्त हैं आधुनिक जन
अपने सुरक्षित भविष्य
और सुविधाजनक
वर्तमान के प्रति
 
            कोई अचंभा नहीं
            बरसात और तूफ़ान में
            गिरते कच्चे मकानों से
 
            आश्चर्यजनक नहीं
            झुग्गी-झोपड़ियों का 
            स्वाहा हो जाना गर्मियों में
 
            है बहुत सामान्य 
            सर्दियों में मर जाना
            फूटने से नकसीर 
            वस्त्रहीन मनुष्यों का
 
है सहज क्रंदन 
अव्यवहारिक, सरल, 
संवेदनशील मनुष्यों का
 
            शरीर के अनावश्यक 
            अवयवों का
            नहीं होता कोई महत्व
            नष्ट भी हो जाएँ 
            यदि वे
    
सुंदर नहीं दिखेगा
क्षत-विक्षत यह शरीर
जो हो चुके हैं 
विकृतियों को
सुंदर कहने के आदी
 
उनके लिए बेज़ायका है
शरीर का संपुष्ट
सुगठित और सुंदर होना
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

पुस्तक समीक्षा

साहित्यिक आलेख

कहानी

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सामाजिक आलेख

स्मृति लेख

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं