अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

 मारे गए हैं वे

एक
 
कबूतर की तरह
तड़पता - फड़फड़ाता
गिरा वह गली में
छत से ठाँय - - -
बेधती हुई सीना
थ्री-नॉट-थ्री रायफल से
निकली गोली
 
वह दंगई नहीं
तमाशबीन था
भरा-पूरा जिस्म, क़द्दावर काठी
आँखों में तैरते सपने लिए 
चला गया, यद्यपि
नहीं जाना चाहता था वह
 
       दो
 
        हस्पताल आने तक 
        यक़ीन था उसे
        नहीं मरेगा 
        बच जाएगा क्योंकि वह 
        नहीं था क़ुसूरवार
 
        भतीजी की चिंता में परेशान
        चल पड़ा था 
        विद्या मंदिर की तरफ़
        नहीं पहुँच सका
 
        घंटे भर लहू बहने के बाद
        पहुँचाया गया हस्पताल
        सांप्रदायिक नहीं था वह
        फिर भी मरा 
        पुलिस की गोली से
 
                तीन
 
                    उमंग और ख़ुशी से
                    जीवन में चाहता था
                    भरना चमकदार, 
                    आकर्षक रंग
 
                   प्रियतमा सुंदर उसकी
                   छिड़कती रही उस पर 
                   अपनी जान
 
                    ब्याह दी गई
                    सजातीय, उच्च वर्ग के 
                    वर के साथ
 
                    सपनों को साकार 
                    करने के लिए
                    कर दिए एक दिन-रात
                    बेफ़िक्र था इस 
                    कार्य-व्यापार से वह
                    तड़पता-छटपटाता रह गया
                    पाकर सूचना शुभ !
 
        सपने टूटने की 
        अनगिनत घटनाएँ
        क़िस्से, पुराकथाएँ
 
                        गवाह है इतिहास
                        गवाह हैं चाँद-सितारे
                        गवाह हैं धर्मग्रन्थ
                        गवाह हैं कवि
 
        हादसे यूँ ही 
        घटते रहे हैं अक्सर 
        निर्दोष, भोले-भाले
        अव्यवहारिक 
        व्यक्तियों के साथ
        मारे गए हैं सदैव वे
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

पुस्तक समीक्षा

साहित्यिक आलेख

कहानी

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सामाजिक आलेख

स्मृति लेख

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं