अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विकास अभी रुका तो नहीं है

एक गहरा आलोड़न
मन में, हृदय में
रक्त में, शिराओं में
इतना बुरा तो नहीं है
यह वक्त 

तुमुलनाद करती घंट-ध्वनियाँ
थिरकती नृत्याँगनाएँ
शास्त्रीय-नृत्य, संगीत 
विलासिता, उपभोग की
अगणित वस्तुएँ

चाहा था यही तो
पितर-पूर्वजों ने
धन-धान्य से लबालब
भोग विलासपूर्ण जीवन हो
संतानों का

संतानें वे नहीं 
जिन्होंने उपजाया धान्य
संतानें वे नहीं 
जिन्होंने बनाए भवन

वे भी नहीं
जिन्होंने नहीं कमाया
अकूत धन
बिना श्रम के
बे-ईमान हो

संतानें तो वही 
जिन्होंने पिया हो
दूध चाँदी के चम्मचों से
जिन्होंने खाई हों
स्वर्ण भस्में
या जिन्होंने जन्मते ही
देखकर रुधिर और माँस
मारी हों किलकारियाँ

संतानें वे
जिनके पास सारे सूत्र हैं
वैभव-विलास 
सँजो पाने के

जिनके पास है फन
एक को सौ में बदलने का
कला है जिनके पास
औरों के जिस्म की खाल
अपने जिस्म पर चढ़ा लेने की

’यानी’ का कंसर्ट 
’माईकल जेक्सन’ का रॉक
सुष्मिता सेन, ऐश्वर्या राय की
सुंदर देहयष्टि

मदिरा के अगणित प्रकार
विकृतियों के विभिन्न आकार
वाहनों की अनेकों किस्में
आभूषणों की सहस्त्रों डिजाइनें

भाँति-भाँति के 
माँस और रुधिर से बने पकवान

वक्त इतना तो 
बुरा नहीं 
विकास 
अभी रुका तो नहीं 
और क्या है 
जो अभी होना है
जंगल नहीं, 
जानवर भी नहीं 

जंगलीपन बचा है अभी
है शेष पशुता, 
बर्बरता अभी

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

पुस्तक समीक्षा

साहित्यिक आलेख

कहानी

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सामाजिक आलेख

स्मृति लेख

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं