अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क्या होता?

क्या होता?
कभी यूँ ही बैठे-बैठे मैं सोचती हूँ, 
शब्दों की महिमा मन ही मन गुनती हूँ, 
 
उनींदे शिशु को जब माँ थपकी दे सुलाती
शब्दों के अभाव में उसे लोरी कैसे सुनाती?
स्नेह और ममत्व तो दे देती अपने स्पर्श और चुंबन से
पर लोरी के बिना उन्हें परीलोक कैसे पहुँचाती?
 
गुरु के आश्रम में शिष्य सीख लेते आचार-व्यवहार
शब्दों के बिना वे मंत्र कैसे पाते?
कैसे गुंजारित होता आश्रम मंत्रोच्चार से! 
मार्गदर्शक वेदों को हम कैसे पाते?
 
शब्द न होते तो कैसे बनते भजन-कीर्तन
ईश्वर तक अपना निवेदन हम कैसे पहुँचाते?

निकट होने पर प्रेमी नैन-सैन से करते बतियाँ 
दूर होने पर प्रेमपत्र तो क़तई न लिख पाते!
विरह की वेदना तो हो जाती प्रकट आहों से
पर कालिदास मेघदूतम् तो न लिख पाते!
 
शब्द ही न होते तो कैसे बनती भाषा?
भिन्न भाषा-भाषी फिर कैसे टकराते?
होती न भाषाएँ तो क्या युद्ध भी न होते!
वसुधा के सारे प्राणी क्या एक कुटुंब हो पाते?
 
क्या होता यदि शब्द ही न होते?
कभी मन ही मन मैं यूँ ही गुनती हूँ, 
शब्दों की महिमा के बारे में सोचती हूँ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ललित निबन्ध

अनूदित लोक कथा

कविता

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं