अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भ्रष्टाचार की वैतरणी

पेटु भरि न सही
थोड़ा तो खाओ।
बहती गंगा मा
तुमहू हाथ ध्वाओ॥
1.
जनक जी की भाँति
जो तुम बनिहौ बिदेह,
कलजुग मा सुखिहैं हड्डी
झुराई तुम्हारि देह.......,
नौकरी मा आयके तुम
बनिहौ जो धर्मात्मा ..,
मरै के बादि कसम से
तड़पी तुम्हारि आत्मा,
यहिसे हम कहित है
धरम-करम का सीधा
धुरिया-धाम
मा मिलाओ।
पेटु भरि न सही........
थोड़ा तो खाओ........।
2.
इकीसवीं सदी मा जो
गाँधी जी लौटि आवैं,
बिना लिहे-दिहे अबकी
याको सुविधा न पावैं,
पद कै महत्ता पहिले
खूब समझो औ बूझो,
कमीशन की खातिर
तुम भगीरथ सा जूझो,
गिरगिट की तरह तुमहू
सब आपनि रंग बदलो,
कचरा मा न सही तुम
झूरेन मा फिसलो....,
करो चमचागीरी खूब
दालि अपनिउ गलाओ।
पेटु भरि न सही .......
थोड़ा तो खाओ........।
3.
हमारि बात मनिहौ तो
तुम्हरिव भाग जगिहै..,
दुःख,दलिद्दुर तुम्हरी
ढेहरी से दूरि भगिहै..,
बाबूगीरी के रंग मा जो
तुम पूरा रंगि जइहौ...,
हरि हफ्ता फिरि तुम
होली दीवाली मनयिहौ,
बड़े-बड़े अफ़्सर के तुम
रयिहौ आगे पीछे......,
बड़ी-बड़ी फाईलै तुम
करिहौ ऊपर नीचे....,
काबुली घोड़ा न सही
तुम टेटुवै दौड़ाओ....।
पेटु भरि न सही......
थोड़ा तो खाओ.....।
4.
चंदुली खोपड़ी का न तुम
बार-बार न्वाचो..........,
लरिका बच्चन के बिषय
मा कुछ आगे का स्वान्चो,
रामराजि हुवै दियो ......
राम का मुबारक.........,
सबसे पहिले साधो .....
तुम लाभ वाला स्वारथ,
अकेले तुम कमयिहौ तो
सब घरु खाई...........,
तुमका कऊन चिंता
बाढ़ै दियो महगाई.....,
भ्रष्टचार की वैतरणी मा
"अमरेश" डूबो उतराओ।
पेटु भरि न सही.......
थोड़ा तो खाओ.....।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता-मुक्तक

कविता

कहानी

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं