अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सरहदें

"ए लड़के, इन्हें कहाँ लेकर जा रहा है?" उस पुलिस ऑफ़िसर ने अपनी खड़ी जीप में से तेज़ी से बाहर निकलते हुए हुए ऊँची आवाज़ में, मेरी बगल में चलते हुए उस नौजवान से पूछा, जो हमारी कोच का ड्राइवर था। इससे पहले वो बेचारा घबरा कर कुछ कहता, मैंने हँसते हुए जवाब दिया,

"ऑफ़िसर, यह नहीं, बल्कि मैं इसे ले जा रही हूँ, वो सामने मोची के पास, क्योंकि मेरे इस हैंडबैग का स्ट्रैप टूट गया है।"

तब वो ऑफ़िसर नरम आवाज़ में मुझसे बोला, "मगर आपके ग्रुप में से किसी को भी इधर-उधर जाने की इज़ाज़त नहीं, चलिये मैं साथ चलता हूँ।"

मोची ने दो ही मिनटों में बड़ी बाखूबी से उस स्ट्रैप को सी दिया। मैं उसे पैसे देने के लिए अभी पर्स में से नोट निकाल ही रही थी कि उस ऑफ़िसर ने झट से 20 रु. मोची को थमा दिए। मेरे बहुत मना करने पर वो बड़े अदब से बोला, "आप का देना नहीं बनता क्योंकि आप लोग हमारे मेहमान हैं।" यह सुन मेरी आँखों में पानी आ गया।

यह घटना मेरे साथ हाल ही में घटी, जब हमारा 325-30 का ग्रुप गुरु नानकदेव जी के प्रकाश-उत्सव पर नवम्बर में 12 दिन की ‘यात्रा’ के लिए इंग्लैंड से पाकिस्तान गया हुआ था।

मैं यह दावे के साथ कहती हूँ कि: "भारत और पाकिस्तान की सरहदों की बीच चाहे कितनी भी मज़बूत और ऊँची दीवारें खड़ी हों, मगर इन दोनों मुल्कों के लोगों के दिलों में कोई दीवार खड़ी नहीं कर सकता।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखा विवाह
|

नीरजा और महेश चंद्र द्विवेदी की सगाई की…

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपनी विलक्षण अनुभूतियाँ
|

(जब अपने मुख पर स्व. पापा की छवि देखी) आज…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

चिन्तन

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं