अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अपना अपना स्वर्ग

क्या आपका भी स्वर्ग औरों के स्वर्ग से बिल्कुल अलग-थलग है?

मेरे मन में यह प्रश्न तभी उठता है जब-जब मेरे ब्रिटिश दोस्त छुट्टियों के लिए अधिकतर गर्म स्थानों पर ही जाना पसन्द करते हैं, और फिर उनके लौटने पर यही सुनने को मिलता है, "वाह! भरपूर आनंद ही आनंद था वहाँ . . . बिल्कुल स्वर्ग जैसा . . . ढेरों खाना व 'पीना', पूरा-पूरा दिन तेज़ चमकते सूर्य देवता!" और फिर अपनी बाजुओं व टाँगों को गर्व से सभी को दिखाते फिरते हैं कि देखिए, मुफ़्त में ही त्वचा 'टैन' होकर कितनी 'ब्राउन' हो गई है।

परन्तु मेरे भारतीय व अन्य गर्म देशों के दोस्त और रिश्तेदारों की स्वर्ग की परिभाषा बिल्कुल विपरीत है। आप समझ ही गये होंगे। उनके विचारानुसार स्वर्ग में छप्पन प्रकार के भोजन व पेय पदार्थों के साथ-साथ वहाँ बर्फ़ से ढके पर्वत, नदियों में निरन्तर शीतल जल बहता हुआ व धूप में त्वचा कहीं 'ब्राउन' से काली न होने पाये तो घने पेड़ों की सदैव ठंडी-ठंडी छाया इत्यादि-इत्यादि का भरपूर आनंद मिलता है।

आप किसी भी देश या जाति के हों, और स्वर्ग में विश्वास रखते हैं, तो आप यह भी सुनते आए होंगे कि वहाँ सभी ऐश्वर्यों के साथ-साथ सेवा व मनोरंजन हेतु स्वर्गवासियों के इर्द-गिर्द दिन–रात अप्सराएँ (हूर्रें), देवदूत, गंधर्व आदि आदि मँडरा रहे होते हैं। परन्तु थोड़ा हटकर विचार करें कि स्वर्ग जाने वालों के लिए क्या ये सभी ऐश्वर्य किसी काम के हैं?

अरे भई! बड़े-बूढ़ों को स्वर्ग तो तभी मिलता है न, यदि वे जीते-जी काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद, ईर्ष्या आदि बुराइयों के समीप जाने-अनजाने में भी फटके तक न हों; किसी पराई स्त्री या मर्द पर मन से तो क्या स्वप्न में भी बुरी दृष्टि न डाली हो; जीवन पर्यन्त खाने-पीने, धन-दौलत इत्यादि का लालच न किया हो। तो मरण उपरान्त यही सब कुछ उन्हें क्यों भायेगा? हम जीवन भर तो यही सुनते आये हैं कि ये ऐशो-आराम का अति होना नर्क का द्वार है . . . और फिर इन्हीं का लालच देकर स्वर्ग जाने के लिए उकसाया जाता है। ऐसा क्यों?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

चिंता नहीं, चिंतन का विषय
|

कुछ पाठकों को मेरी बात शायद अटपटी लगे, लेकिन…

जीवन की महाडोर
|

भारतीय चिंतन धारा के अनुसार संपूर्ण सृष्टि…

जीवनोपासना
|

जीवन अमृत तुल्य है। मानव के असंख्य पुण्य…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कहानी

चिन्तन

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं