अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वेलेंटाइन-डे और भारतीय संदर्भ

प्यार या प्रेम एक इंसान के लिए ,सबसे संतोषजनक भावनाओं में से एक है जिसे हर कोई अनुभव करना चाहता है। हर कोई प्यार पाने के लिए प्यार करता है। आप कुछ शब्दों में प्यार को परिभाषित नहीं कर सकते, हम में से हर एक के पास प्यार के बारे में अपना दृष्टिकोण है। यह किसी को शारीरिक रूप से और साथ ही भावनात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

वेलेंटाइन-डे की अवधारणा भारतीय संस्कृति से पूरी तरह से अलग है। भारत में लोग अपने पारिवारिक मूल्यों को सबसे ज़्यादा महत्व देते हैं, और जहाँ हर दिन हर परिवार में आपसी स्नेह और एक दूसरे का समर्पण आचरण में होता है, मैं वास्तव में यह नहीं समझता कि हमें साल के एक दिन में अपने प्यार के प्रदर्शन की ज़रूरत है।

भारत हमेशा से विश्व संस्कृतियों, धर्मों और परंपराओं को खुले हृदय से अपनाता रहा है, लेकिन अब हम पश्चिमी त्योहारों और संस्कृति के इस विपणन अभियान के कारण स्वदेशी संस्कृति में एक स्पष्ट गिरावट देख रहे हैं, जो लोगों को लगता है कि यह दिवस मनाना फ़ैशनेबल है। लेकिन उन्हें नहीं मालूम की इस आयोजन को इस तरह से बाज़ार में उतारा गया है कि यह ख़ास लग रहा है।

भारत में प्रेम का बहुत गहरा अर्थ है और अधिकांश भारतीय एक स्थायी संबंध के लिए प्रयास करते हैं जिससे शादी के बाद एक स्थिर जीवन मिल सके, लेकिन अब रिश्ते स्पष्ट रूप से खोखले हैं और मुझे नहीं लगता कि उनमें प्यार का एक पल भी शामिल है, रिश्तों में प्यार की जगह अब केवल आकर्षण है। मेरा मानना है कि प्यार कभी ज़ोर ज़बरदस्ती या फ़ैशन से नहीं होता बल्कि एक दूसरे के प्रति केयर से उत्पन्न होता है।

भारतीय संस्कृति वैलेंटाइन्स दिवस को अपने में समाहित कर सकती है जैसे कि इसने कई अन्य संस्कृतियों और त्योहारों को अवशोषित किया है। आख़िरकार प्यार का जश्न अपने आप में हानिकारक नहीं है, लेकिन यह भूल जाना कि प्यार क्या है और स्थानीय संस्कृति और परंपराओं को सिरे से ख़ारिज करना क्योंकि वह, वैश्वीकरण की परिभाषा के अनुरूप नहीं है, निश्चित रूप से हानिकारक है।

पश्चिमी संस्कृति में, हर चीज़ का व्यवसायीकरण होता है, इसलिए उनके पास वेलेंटाइन डे, फादर्स डे, मदर्स डे आदि जैसी अवधारणाएँ हैं। ज़्यादातर लोग अपने माता-पिता के साथ नहीं रहते हैं क्योंकि 16 वर्ष या अधिकतम 18 की उम्र पार करने के बाद बच्चों को एक बोझ माना जाता है। इसलिए प्यार के लिए, उन्हें एक ख़ास दिन की ज़रूरत होती है।

वैलेंटाइन डे का समाज पर ऐसा प्रभाव पड़ता है जो वास्तव में दिखाई नहीं देता। यह प्रभाव हिंदू समाज पर अधिक है, जो परंपराओं और संस्कृति से काफ़ी हद तक जुड़ा हुआ है और इसमें से कई लोग आत्म शिथिल हैं।

व्यावसायीकरण से सब कुछ उत्पन्न हुआ, जहाँ यह कार्ड और गुलाब के साथ शुरू हुआ और अब महँगे रात्रिभोज, कपड़े, हीरे और यहाँ तक कि छोटे अवकाश भी इसमें शामिल हैं। जोड़े भी अपने प्यार का प्रदर्शन करते हुए इन दिनों शालीनता की सभी सीमाओं को पार करते हैं, जो प्यार बेडरूम की चार दीवारों के भीतर आरक्षित किया जाता था आज उसे खुले में आप कहीं भी देख सकते हैं। इस कारण से भारत के इस पश्चिमीकरण का विरोध करने वालों की संख्या बढ़ रही है।

वास्तव में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि त्योहारों को उनके नाम और मूल के बजाय किस तरह से मनाया,जाय। जैसे अधिकार और कर्तव्य होते हैं, वैसे ही किसी भी त्योहार का जश्न और उसकी सीमा में होना चाहिए। वेलेंटाइन डे मनाने वाले युवाओं को यह नहीं भूलना चाहिए कि जिस समाज में हम, रह रहे हैं वह परिवर्तन के दौर से गुज़र रहा है और समाज में कई बुरे तत्व हैं जो ऐसे दिनों का पूरा फ़ायदा उठाते हैं। उनके लिए प्यार का मतलब शारीरिक होता है और इससे ज़्यादा कुछ नहीं। यदि यह इरादा है तो यह सच है कि केवल वेलेंटाइन ही नहीं बल्कि ऐसा कोई भी त्योहार भारतीय संस्कृति के ख़िलाफ़ है। इसके अलावा हमारा समाज एक खुला समाज नहीं हैं और जब हम इस तरह की बातों को खुले तौर पर क़ुबूल करते हैं तो ये ग़लत माना जाता है। लेकिन अगर वेलेंटाइन-डे त्योहार को शुद्ध पवित्र और अच्छी और भावना के साथ मनाया जाता है और हम अपने प्रियजनों के साथ समय बिताते हैं तो इसमें कुछ ग़लत नहीं है।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अणु
|

मेरे भीतर का अणु अब मुझे मिला है। भीतर…

अध्यात्म और विज्ञान के अंतरंग सम्बन्ध
|

वैज्ञानिक दृष्टिकोण कल्पनाशीलता एवं अंतर्ज्ञान…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत

कविता

कविता-मुक्तक

बाल साहित्य कविता

कहानी

दोहे

लघुकथा

किशोर साहित्य कविता

नाटक

ग़ज़ल

साहित्यिक आलेख

सामाजिक आलेख

बाल साहित्य लघुकथा

कविता - हाइकु

व्यक्ति चित्र

सिनेमा और साहित्य

किशोर साहित्य नाटक

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं