अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शस्य श्यामला भारत भूमि

(देश भक्ति गीत )
 

आज शहीदों के जीवन को
आओ सब मिल नमन करें।
शस्य श्यामला भारत भूमि
आओ इसको रतन करें।
 
तिमिर गुलामी का झेला है
अग्नि पथों से गुज़र चुका है।
ज्योति जागरण नव प्रभात का
संघर्षों में कहाँ रुका है।
शस्य श्यामला भारत शतदल
उन्नत मस्तक लिए खड़ा है।
अपने वैभव की रक्षा में
सदियों तक अनवरत लड़ा है।
 
शत मधुवन उपवन सा भारत
आओ इसका यजन करें।
 
आँखों में आँखें डाले हम
अब दुनिया से बातें करते।
अमन चैन पैग़ाम हमारा
सब दुश्मन सीमा पर डरते।
है आज़ाद कंठ आज़ादी
सब मिलजुल कर हम रहते हैं।
दुख पीड़ा या ख़ुशियाँ सारी
संग संग सब हम सहते हैं।
 
विस्तृत हुईं आज सीमायें
आओ मिल कर गगन करें।
 
संघर्षों से हमजोली कर
चल पड़ा देश विकास पथ पर।
तुमुल विजय ध्वनि मन भर कर
जन गण मन सवार रथ पर।
विजयी विश्व तिरंगा थामे
हैं वीर युवा अब कर्णधार।
बने वज्र प्राचीर राष्ट्र की
युवा राष्ट्र के हैं आधार।
 
नव स्वतंत्र जन गण मन भारत
आओ इसका भजन करें।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक

गीत-नवगीत

कविता

सामाजिक आलेख

दोहे

बाल साहित्य लघुकथा

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

कविता - हाइकु

व्यक्ति चित्र

सिनेमा और साहित्य

कहानी

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं