अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अंतर 

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है, तुम हर काम को अपने अनुसार करते हो जबकि मनोज हर काम को समझबूझ कर मुझसे पूछ कर करता है," रमेश ने अपने बेटे सुजीत पर झल्लाते हुए कहा। 

"पर पापा आप मुझ पर अपनी सलाह क्यों थोपते हो मैं बड़ा हो गया हूँ; मैं अपने निर्णय अपने विवेक से लेना चाहता हूँ," सुजीत ने अपने पिता का विरोध किया। 

"हाँ अब तुम बहुत बड़े हो गए हो अपने पिता से भी बड़े बग़ैर पूछे काम करने का लाइसेंस मिल गया है तुम्हें," पिता ने लगभग लताड़ते हुए सुजीत से कहा। 

"आप पिता हैं हमेशा पिता ही रहेंगे; मैं पिता के रूप में आपका सम्मान करता हूँ लेकिन ज़रूरी नहीं कि मैं हर बात आपके अनुसार करूँ, आपकी हर सलाह मानूँ," सुजीत के स्वर में तल्ख़ी थी। 

"अब मेरी बात क्यों मानोगे बेटा अब मैं बूढ़ा जो हो गया हूँ," रमेश के स्वर में दर्द था। 

"पापा आप सोच बदलिए आपके बेटे बड़े हो गए हैं। उन्हें अपने निर्णय लेने के अधिकार से वंचित मत करिये," सुजीत ने अपने पिता को समझाया।

"यही तो अंतर है तुम्हारी और मनोज की सोच में उसके लिए पिता ही सबकुछ है और तुम्हारे लिए कुछ भी नहीं," रमेश के चेहरे पर ग़ुस्सा था। 

"हाँ पापा यही अंतर है मुझमें और मनोज भैया में। मैं आज अपने पैरों पर खड़ा हूँ और वो आज भी आप पर आश्रित हैं। मन में सम्मान होना और बात मानना दोनों में बहुत अंतर है," सुजीत मुस्कुराते हुए वहाँ से निकल गया और छोड़ गया रमेश के मन में कई प्रश्न। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

निर्मल कुमार दे 2021/08/03 07:10 PM

अच्छी लघुकथा। बधाई।

मधु शर्मा 2021/08/03 02:17 PM

आपने पूत व कपूत में अंतर को सही दर्शाया। साधुवाद।

पाण्डेय सरिता 2021/08/02 05:14 PM

बहुत बढ़िया

Praveen kumar sharma 2021/08/01 01:44 PM

आज के जेनरेशन गेप पर अच्छा लिखा है श्रीमानजी आपने।पिता लोगों को समझना चाहिए कि किसी बात को थोपना हमेशा ही कारगर हो ऐसा संभव नहीं।बहुत सुंदर ।आप मेरे पसंदीदा साहित्यकारों में शुमार हो ।

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक

बाल साहित्य कविता

कहानी

कविता

गीत-नवगीत

दोहे

लघुकथा

किशोर साहित्य कविता

नाटक

ग़ज़ल

साहित्यिक आलेख

सामाजिक आलेख

बाल साहित्य लघुकथा

कविता - हाइकु

व्यक्ति चित्र

सिनेमा और साहित्य

किशोर साहित्य नाटक

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं