अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लौकी और कद्दू की लड़ाई

कद्दू से लौकी भिड़ बैठी
ख़ूब मची लड़ाई है।

 
ऊबड़ खाबड़ से तुम लगते
तुम मोटे से भद्दू राम।
तुम्हें देख कर मुँह बिचकाएँ
नाम तुम्हारा कद्दूराम।
पेट तुम्हारा थुल थुल देखो
गर्दन कितनी छोटी है।
ठुमक ठुमक कर तुम चलते हो
पीठ तुम्हारी मोटी है।
 
सब्ज़ी नहीं तुम्हारी अच्छी
तुम में न चतुराई है।

 

ओ लौकी तुम दुबली पतली
मुझसे पंगा मत लेना।
जैसा भी हूँ तुमसे अच्छा
क्या तुमसे लेना देना।
लूली लंगड़ी लम्बी पतरुल
मुझसे न यूँ घात करो।
सब सब्ज़ी से नीचे हो तुम
ज़्यादा न तुम बात करो।

 

सूरत देख कर बच्चे रोते
तुम में कौन बड़ाई है?

 

आलू दादा बीच में बोले
तुम दोनों हो सबसे सच्चे ।
दोनों औषधि के गुण वाले
दोनों वैद्यराज के बच्चे।
अवगुण नहीं किसी के देखो
गुण का तुम सम्मान करो।
दूजे को कमतर दिखला कर
मत इतना अभिमान करो।

 

स्वास्थ्य के वर्धक हो तुम दोनों
दोनों में अच्छाई है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

6 बाल गीत
|

१ गुड़िया रानी, गुड़िया रानी,  तू क्यों…

 चन्दा मामा
|

सुन्दर सा है चन्दा मामा। सब बच्चों का प्यारा…

 हिमपात
|

ऊँचे पर्वत पर हम आए। मन में हैं ख़ुशियाँ…

अंगद जैसा
|

अ आ इ ई पर कविता अ अनार का बोला था। आम पेड़…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख

लघुकथा

व्यक्ति चित्र

गीत-नवगीत

दोहे

कविता

साहित्यिक आलेख

सिनेमा और साहित्य

कहानी

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं