अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

उठो उठो तुम हे रणचंडी

(डॉ. प्रियंका रेड्डी को समर्पित)

 

आँखों में भर कर अँगारे
मन प्रतिशोध की ज्वाला हो।

 

आज प्रियंका को खाया है
हवस के कूकर मुत्तों ने।
एक शेरनी को मारा है
नरपिशाच उन कुत्तों ने।
हर दिन ऐसी कितनी बेटी
लुटती सरे बज़ारों में।
जाने कितने हवस के कुत्ते
बैठे हैं अँधियारों में।

 

कौन बचाएगा बेटी को
जब भक्षक रखवाला हो।

 

आज पिता की आँखें चिंतित
माँ की सारी नींद उड़ी है।
भाई का मन रहे सशंकित
विपदा कैसी आन खड़ी है।
बेटी नहीं आज तक रक्षित
किस समाज में हम जीते।
सोती सत्ता तंत्र निकम्मा
घूँट ज़हर के हम पीते।

 

ग़ैरों की क्या करें शिकायत
जब दुश्मन घरवाला हो।

 

बेटी रामायण है घर की
बेटी है गीता का ज्ञान।
बेटी है क़ुरान की आयत
बेटी बाइबल का आख्यान।
बेटी तुम अब सशक्त बन जाओ
रणचंडी का रूप धरो।
ये समाज अब बना शिखंडी
अपनी रक्षा आप करो।

 

हे रणचंडी निकल पड़ो तुम
कर नरपशुओं की माला हो।


आज नहीं तुम अबला नारी
तुम सशक्त इंसान हो।
समता ओज सुरक्षा शुचिता
पूर्णशक्ति आधान हो।
कलयुग का महिषासुर देखो
तुमको आज नकार रहा है।
उठो उठो तुम हे रणचंडी
समय तुम्हे पुकार रहा है।

 

ओंठो पर जयघोष का नारा
अरु हाथों में भाला हो।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत

सामाजिक आलेख

सिनेमा और साहित्य

साहित्यिक आलेख

कहानी

कविता

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

दोहे

लघुकथा

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं