अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हिन्दी इज़ द मोस्ट वैलुएबल लैंग्वेज

"हिन्दी दिवस पर आज मैं आप सब लोगों का हार्दिक अभिनंदन करता हूँ। हिन्दी भारतीय संस्कृति की प्राण है, यह शस्य श्यामला भूमि का भूषण हैं। यह मानव मन को अवर्चनीय आनंद से सांगोपांग पगा देने वाली भाषा है।"

बाल मंदिर विद्यालय में आयोजित हिंदी दिवस समारोह में अंग्रेज़ी के शिक्षक श्री मोहन मधुर ने अपने उद्बोधन में जैसे ही क्लिष्ट शब्दों का समायोजन किया सभी बच्चों के चेहरों से स्पष्ट लग रहा था वो थोड़े असहज हैं।

बाक़ी शिक्षक भी असहज से दिखे क्योंकि अंग्रेज़ी माध्यम के स्कूल में अधिकांश शिक्षक साउथ इंडियन थे। और फिर अंग्रेज़ी का शिक्षक इतनी उच्च स्तरीय हिंदी कैसे बोल रहा था ये भी एक बड़ा प्रश्न था।

संचालक ने कान में कहा, "सर स्टूडेंट डू नॉट अंडरस्टैंड व्हाट आर यु सेइंग।"

"अच्छा," श्री मनोहर मधुर सकपका गए फिर मुस्कुराते हुए उन्होंने अपना भाषण जारी रखा।

"नाउ वी आर गोईंग टू सेलिब्रेट हिन्दी दिवस टुडे. हिन्दी इज़ द मोस्ट लवेबल लेंग्वेज, इट इज़ अवर नेशनल प्राइड, वी शुड डू एवरी थिंग इन हिंदी।"

मनोहर मधुर की रौबदार आवाज़ गूँज रही थी बच्चे ख़श थे उन्हें अब हिन्दी की महत्ता पूरी समझ में आ रही थी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

दोहे

कविता

सामाजिक आलेख

साहित्यिक आलेख

लघुकथा

गीत-नवगीत

सिनेमा और साहित्य

कहानी

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं