अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शायरी - ग़ज़ल

क्ष ख् ज्ञ त्र श-ष श्र 1 2 3 4 5 6 7 8 9

  1. अंगूर की ये बेटी कितनी है ग़म कि मारी
  2. अंततः अब मिलना है उनसे मुझे
  3. अगर उन के इशारे इस क़दर मुबहम नहीं होंगे
  4. अगर हम तुम्हें याद आने लगेंगे
  5. अच्छे बुरे की पहचान मुश्किल हो गई है
  6. अदालत की कहानी है
  7. अपनी आँखों  के मोती  को चुन-चुन  उठा लूँ मैं
  8. अपनी सरकार
  9. अपनी ख़बर मिली न पता आपका मुझे
  10. अपनी ज़ुल्फों को सितारों के हवाले कर दो
  11. अपने पास न रखो
  12. अब ख़ुशी की हदों के पार हूँ मैं
  13. अब तो आ बाद-ए- सबा इन बस्तियों के वास्ते
  14. अब दो आलम से सदा-ए-साज़ आती है मुझे
  15. अब मकाँ होते हैं कभी घर हुआ करते थे
  16. अम्बर धरती ऊपर नीचे आग बरसती तकता हूँ
  17. अवसर
  18. अश्क़ बन कर जो छलकती रही मिट्टी मेरी

ऊपर

  1. आँखों में तेरे ही जलवे रहते हैं 
  2. आइने कितने यहाँ टूट चुके हैं अब तक
  3. आईने ने सुना दी कहानी मिरी
  4. आए मुश्किल
  5. आओ इक तस्वीर ले लें यार की हंसते हुए
  6. आज   फिर  सनम  हमें  उदास  रहने  दीजिए
  7. आज का राँझा हीर बेच गया
  8. आज कोई तो फैसला होगा
  9. आज तिरंगे को देखा
  10. आज हिंदी को बचाने कोई तो आगे बढ़ो
  11. आज फ़ैशन है
  12. आजकल
  13. आज़माना ठीक नहीं
  14. आदमी प्यार में सोचता कुछ नहीं
  15. आप अगर हम को मिल गए होते
  16. आप जब टकटकी लगाते हैं
  17. आपको आज इक नज़र देखा
  18. आपसे बात मेरी जो बनने लगी
  19. आम कीजिए मुझे ख़ास कौन कर गया
  20. आवाज़ कौन
  21. आशना हो कर कभी नाआशना हो जायेगा
  22. आसमाँ शक के घेरे में है
  23. आज़ादी के क्या माने वहाँ

ऊपर

  1. इंसानियत के वाक़ये दुशवार हो गये
  2. इक कहानी तुम्हें मैं..
  3. इक न इक दिन
  4. इक बेटी की भाव भीनी श्रद्धांजलि
  5. इक मुसाफ़िर राह से भटका हुआ
  6. इक लगन तिरे शहर में जाने की लगी हुई थी
  7. इतने गहरे घाव
  8. इन्सान की हर ख्वाहिश पूरी नहीं होती
  9. इलाही! चल  बता सबको  ज़रा
  10. इश्तिहार निकाले नहीं
  11. इश्क़
  12. इश्क़ में जिसको मुबतला देखा
  13. इश्क़ से गर यूँ डर गए होते
  14. इस गली में न उस डगर जाएँ
  15. इस दुनियाँ-ए-फ़ानी में क्यूँ रोता है

ऊपर

  1. ईमानदारी से चला

ऊपर

  1. उजालों के ना जब तक आये पैग़ाम
  2. उन दिनों ये शहर...
  3. उनकी अदाएँ उनके मोहल्ले में चलते तो देखते
  4. उमर के साथ साथ किरदार
  5. उल्फ़त में बग़ावत की अदा आ के रहेगी
  6. उस शिकारी से ये पूछो
  7. उसी को कुछ कहते अपना बुतखाना है
  8. उसे ग़ुस्से में क्या कुछ कह दिया था 

ऊपर

ऊपर

  1. ए दिल मिरे तू बोल मैं कविता पे कविता क्या लिखूँ

ऊपर

  1. ऐ मैगुसारों सवेरे सवेरे
  2. ऐ मौत अभी तू वापस जा

ऊपर

ऊपर

  1. और हमको न कोई सताए

ऊपर

  1. कच्चा पक्का मकान था अपना
  2. कटे थे कल जो यहाँ जंगलों की भाषा में
  3. कब किसे ऐतबार होता है
  4. कभी तो अपनी हद से निकल
  5. कभी रातों को वो जागे
  6. कभी ख़ुद को ख़ुद से
  7. कह दिया वो साफ़ जो भाया नहीं
  8. कहाँ गुज़ारा दिन कहाँ रात
  9. कहें   कैसे   कि    मेरे   नैन    तर   नहीं  होते 
  10. कहो इश्क़ का आस्ताना कहाँ है
  11. काग़ज़ के फूल
  12. किनारे पर खड़ा क्या सोचता है
  13. किस किस को ले डूबा पानी 
  14. किस तरह ख़ाना ख़राबां फिर रहें हैं हम जनाब
  15. किस क़दर है तुमने ठुकराया मुझे
  16. किसी को जहाँ में किसी ने छला है
  17. किसे मैं सुनाऊँ ये ग़म का फ़साना
  18. कुछ इस तरह से ज़िन्दगी को देखना
  19. कुछ सदा में रही कसर शायद
  20. कैसी  निगाह-ए-इश्क़ में  तासीर  हो  गई
  21. कोई भी शख़्स  हर  मैदान  में  क़ाबिल  नहीं होता
  22. कोई सबूत न गवाही मिलती
  23. कौन करता याद
  24. कौन समझा है कौन जाना है
  25. क्या करूँ कोई मुझे जमता नहीं
  26. क्या पढूँ ग़ज़लें लिखूँ अशआर मैं
  27. क्या ज़रूरी किसी की चाह करो
  28. क़तरे को इक दरिया समझा
  29. क़ुसूर क्या है
  30. क़ौम की हवा

क्ष ऊपर

ख् ऊपर

  1. खार राहों के फूलों में ढलने लगे
  2. खिलते  हुए  फूल  मुरझाने  लगे हैं
  3. खेलन को होली आज  तेरे  द्वार आया हूँ
  4. ख़त लिखना तुम
  5. ख़ुद को  ख़ुद  से ही जोड़ दे मुझको 
  6. ख़ुद को ऊँचा जो नाप जाता है
  7. ख़ुदनुमाई के कभी आलम नहीं थे
  8. ख़ुदा से है कोई ख़ारिज...
  9. ख़ुशबुओं की तरह महकते गए
  10. ख़्वाबों की फ़हरिस्त लगा दी

ऊपर

  1. गर तू मुझसे बेख़बर आबाद है
  2. गर बेटियों का कत्ल यूँ ही कोख में होता रहेगा
  3. गर्व की पतंग
  4. गलियों गलियों हंगामा है
  5. गली कूचों में सन्नाटा बिछा है
  6. ग़ज़ल में नक़ल अच्छी आदत नहीं है
  7. ग़म नहीं हो तो ज़िंदगी भी क्या
  8. ग़म मिटाने की  दवा  सुनते  हैं  मयख़ाने में है
  9. गीत ग़ज़लों की ज़ुबाँ थे पहले
  10. गीत-ओ-नज़्में लिख उन्हें याद करते हैं
  11. गुज़र (गुज़ारा)
  12. गुल को अंगार कर गया है ग़म
  13. गुफ़्तगू इससे भी करा कीजे
  14. गो कहीं से भी ख़ुशी ले आओ मेरे वास्ते

ऊपर

  1. घर में तलाश कर लिये मौक़े शिकार के

ऊपर

  1. चमन में गया  दरबदर  मैंने देखा
  2. चरागाँ ये सूरज सितारे न होंगे
  3. चल चल रे मुसाफ़िर चल है मौत यहाँ हर पल
  4. चले हैं लोग मैं रस्ता हुआ हूँ   
  5. चाँद तारों का सफ़र कर लें हम
  6. चाँद बोला चाँदनी
  7. चाँद सितारों से क्या पूछें कब दिन मेरे फिरते हैं
  8. चाह लम्बी तसल्ली छोटी थी
  9. चाहे जिससे भी वास्ता रखना
  10. चाहे तो पीर-पयंबर-कि कलंदर देखो
  11. चिराग हो के न हो दिल जला के रखते हैं
  12. चोट गहरी है जो दिखती नहीं है
  13. चढ़ा था जो सूरज

ऊपर

  1. छीनकर मुँह से निवाला आपने
  2. छुप के आता है कोई ख़ाब चुराने मेरे
  3. छोटी सी बिगड़ी बात को सुलझा रहे हैं लोग

ऊपर

  1. जंग छोड़कर जो भागे थे
  2. जनाज़े जा रहे हैं  डोलियों से 
  3. जब आप नेक-नीयत
  4. जब कभी मैं अपने अंदर देखता हूँ
  5. जब नहीं तुझको यक़ीं अपना समझता क्यूँ है
  6. जब पुराने रास्तों पर से कभी गुज़रे हैं हम
  7. जब-जब मुझको है मिला
  8. जले जंगल में
  9. जवां हो प्यार तो किसको अदाकारी नहीं आती 
  10. जहाँ उम्मीद हो ना मरहम की
  11. जहाँ में इक तमाशा हो गए हैं
  12. ज़रा मुस्कुराइये
  13. ज़िंदगी एक आह होती है
  14. ज़ुल्म कितना वो ज़ालिम करेगा यहाँ
  15. जान उन बातों का मतलब
  16. जानता हूँ मैं किसी की लानतें अच्छी नहीं
  17. जाने कितने ही उजालों का दहन होता है
  18. जिनको समझा नहीं अपने क़ाबिल कभी
  19. जिसे सिखलाया बोलना
  20. जैसा बोएँ वैसा प्यारे पाएँगे
  21. जैसा सोचा था जीवन आसान नहीं
  22. जो जहाँ भी जहां से उठता है
  23. जो पल कर आस्तीनों में हमारी हमको डसते हैं
  24. जो लोग जान बूझ के नादान बन गए
  25. ज़माना ख़राब है
  26. ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो
  27. ज़िंदगी इक सफ़र  है नहीं और कुछ
  28. ज़िंदगी चलती रहेगी
  29. ज़िद की बात नहीं
  30. ज़िन्दगी का सामना बस इस तरह करते रहे
  31. ज़िन्दगी से लोग इतना डर गए
  32. ज़ुर्म की यूँ दास्तां लिखना
  33. ज़ेह्न में और कोई डर नहीं रहने देता
  34. ज़ख़्‍म भी देते हैं

ज्ञ ऊपर

ऊपर

  1. झूट जब बोला तो ताली हो गई
  2. झूठ को सच बनाइए साहब

ऊपर

  1. टूट जाने तलक गिरा मुझको

ऊपर

  1. ठहराव ज़िन्दगी में दुबारा नहीं मिला

ऊपर

  1. डरता है वो कैसे घर से बाहर निकले
  2. डूब चुके कितने अफ़साने
  3. डूबना था हमको देखो, पर किनारा बन गये

ऊपर

ऊपर

  1. तन्हा हुआ सुशील .....
  2. तबीयत हमारी है भारी
  3. तर्क ए वफ़ा
  4. तिरे ख़्याल के साँचे में ढलने वाली नहीं
  5. तुझको देखूँ तो सीने में
  6. तुझे दिल में बसाना चाहता हूँ
  7. तुम क्या आना जाना भूले
  8. तुम नज़र भर ये
  9. तुम, मानो या न मानो तुम
  10. तुम्हारी तरह झूठ गर हम भी बोलें
  11. तुम्हारी शख़्सियत के मैं बराबर हो नहीं सकता
  12. तू नज़र आई न
  13. तू मेरे राह नहीं
  14. तेरी दुनिया नई नई है क्या
  15. तेरी संगत से ही राहत होती है
  16. तेरी हर बात पर हम ऐतबार करते रहे
  17. तेरे आगोश में
  18. तेरे इंतज़ार में
  19. तेरे दर पे वो आ ही जाते हैं

त्र ऊपर

ऊपर

  1. थककर चूर

ऊपर

  1. दरीचा था न दरवाज़ा था कोई
  2. दिन बीता लो आई रात 
  3. दिल अगर बीमार सा है सोचिए
  4. दिल उनका भी अब इख़्तियार में नहीं है
  5. दिल कहाँ मुब्तिला है उसे क्या पता
  6. दिल का मेरे
  7. दिल का राज़ छुपाना था
  8. दिल के लहू में
  9. दिल में मचलते हैं मेरे  अरमान क्या करें
  10. दिल है आईना-ए-हैरत से दो-चार आज की रात
  11. दिलबर की सूरत आँखों में तारी रख
  12. दिललगी हो  रही है  सितम  के लिए 
  13. दुःखों की बस्तियों में तो, बस आँसू का बसेरा है
  14. दुआ में तेरी असर हो कैसे
  15. दुनियाँ में ईमान धरम को ढोना मुश्किल है
  16. दूध पी के भी नाग डसते हैं
  17. दूर  मुझसे न  जा  वरना  मर जाऊँगा 
  18. दूर बस्ती से जितना घर होगा
  19. देख, ऐसे सवाल रहने दे
  20. देखता ही रह गया
  21. देर तक
  22. दो दिलों में आशिक़ी का रंग वो पैदा हुआ 
  23. दौर कोई इम्तिहानी चाहिए

ऊपर

  1. धुँधली धुँधली किसकी है तहरीर है मेरी
  2. धुआँ आग से जब फ़ना हो गया
  3. धोखा चमक दमक से उजाले का खा गए

ऊपर

  1. न औरों की निंदा न मज़हब की बातें
  2. न चाहा बेवफ़ा की याद में
  3. न वापसी है जहाँ से वहाँ हैं सब के सब
  4. न ज़मीं से है मेरी गुफ़्तगू न ही आसमाँ से कलाम है
  5. नए मकां है
  6. नदी को जलधि में समाना
  7. नया सबेरा
  8. नये पत्ते डाल पर आने लगे
  9. नये साल में
  10. नहीं मिला कहीं भी कुछ अगरचे दर-ब-दर गए
  11. ना जाने  क्या  गुनाह  करने  की  बात है
  12. ना मिली छाँव कहीं यूँ तो कई शज़र मिले
  13. नज़र के सामने सोना पड़ा है

ऊपर

  1. पंख थे परवाज़ की हिम्मत ना हो सकी
  2. परवाने को उधर ही गुज़ारा दिखाई दे
  3. पा रहा दिल यहाँ साथ भरपूर है
  4. पृष्ठ तो इतिहास के जन-जन को दिखलाए गए
  5. प्यार की तान जब लगाई है
  6. प्यार के ख़ुशनुमा ज़माने थे
  7. प्यार में उनसे करूँ शिकायत, ये कैसे हो सकता है
  8. प्यार से रोशन ख़ुदाया

ऊपर

  1. फिर पुरानी राह पर आना पड़ेगा
  2. फूल  खिलते हैं  बाग़ों  में  जब  दोस्तो
  3. फूल उनके हाथ में जँचते नहीं
  4. फूल पत्थर में खिला देता है
  5. फूल महके यूँ फ़ज़ा में रुत सुहानी मिल गई
  6. फूलों की आरज़ू में बड़े ज़ख्म खाए हैं
  7. फूलों की टहनियों पे नशेमन बनाइये
  8. फ़िसादो दर्द और दहशत में जीना
  9. फ़ुरसत से घर में आना तुम
  10. फ़ैसला कैसे करेगा वो
  11. फ़ैसले की घड़ी जो आयी हो

ऊपर

  1. बंजर ज़मीं
  2. बच तो नहीं सकेंगे कॅरोना के जाल से 
  3. बचे हुए कुछ लोग ....
  4. बदल गई है लय जीवन की...
  5. बदली निगाहें वक़्त की क्या क्या चला गया
  6. बस फ़क़त अटकलें लगाते हैं
  7. बस ख़्याले बुनता रहूँ
  8. बहता रहा जो दर्द का सैलाब था न कम
  9. बहारों का आया है मौसम सुहाना
  10. बात की बात
  11. बारिश की ऋतु आ गई
  12. बारिशों में भीग जाना सीखिये
  13. बिना कुछ कहे सब अता हो गया
  14. बिना तेल के दीप जलता नहीं है
  15. बुढ़ापे में  उसका  नहीं  कोई सानी
  16. बे सबब जो सफ़ाई देता है
  17. बे-सबब मुस्कुराना नहीं चाहिए
  18. बेहतर है
  19. बज़्म में गीत गाता हुआ कौन है
  20. बड़े हौले से उसने आज मेरा हाथ छोड़ा है

ऊपर

  1. भटके हैं तेरी याद में जाने कहाँ कहाँ
  2. भरी जवानी में
  3. भूल कर भेदभाव की बातें 

ऊपर

  1. मक्कार चोर धूर्त
  2. मछेरा ले के जाल आया है
  3. मज़हबी
  4. मज़े में सुहाना सफ़र कीजिए 
  5. मान लूँ मैं ये करिश्मा प्यार का कैसे नहीं
  6. मानवता है बिखर गई
  7. मायूस न हो ऐ दिल
  8. मिरी लाडली है मेरी जान है तू 
  9. मिल रही है शिकस्त
  10. मिले हैं सिलसिले ग़म के मुहब्बत के समंदर में
  11. मुझको अपना एक पल...
  12. मुझको उसकी ख़बर नहीं मालूम
  13. मुझपे मौला करम की नज़र कीजिए
  14. मुझसे आख़िर  वो  ख़फ़ा क्यूँ है,
  15. मुझे तुम से मुहब्बत है
  16. मुझे रास आई न दुनिया तुम्हारी
  17. मुल्क तूफ़ाने - बला की ज़द में है
  18. मुहब्बत का सबक़ पहला यही है
  19. मुहब्बत का ही इक मोहरा नहीं था
  20. मुहब्बत में ख़ुशी और दर्द का रिश्ता पुराना है
  21. मुक़द्दर में सभी के बेटियाँ
  22. मेरा मकान है
  23. मेरा यक़ीन, हौसला, किरदार देखकर
  24. मेरा सफ़र भी क्या ये मंज़िल भी क्या तिरे बिन
  25. मेरी आरज़ू   रही  आरज़ू
  26. मेरे   दिल   में   भी  आ  के  रहा  कीजिए
  27. मेरे गीतों मेरी ग़ज़लों को रवानी दे दे
  28. मेरे शहर में
  29. मैं जानता था उसने ही बरबाद किया है
  30. मैं तन्हा हूँ ये दरिया में
  31. मैं तिरे नज़दीक़ आना चाहती हूँ
  32. मैं तो एक दिवाना हूँ
  33. मैं शायर हूँ दिल का जलाया हुआ
  34. मैं सपनों का ताना बाना
  35. मैंने कोई वबाल जो पैदा नहीं किया
  36. मौत तो बस अब बहाना हो गया 
  37. मौसम बदलने लगा
  38. मौसम बदला सा

ऊपर

  1. यह उजाला तो नहीं ‘तम’ को मिटाने वाला
  2. या बहारों का ही ये मौसम नहीं
  3. याद आये तो
  4. याद की बरसातों में
  5. याद भी आते क्यूँ हो
  6. यूँ  तेरी याद से राब्ता रह गया 
  7. यूँ आप नेक-नीयत
  8. यूँ उसकी बेवफाई का मुझको गिला न था
  9. यूँ भी कोई
  10. यूँ ही रोज़ हमसे, मिला कीजिए
  11. ये अब कैसा ज़माना  चल  रहा  है
  12. ये कौन छोड़ गया इस पे ख़ामियाँ अपनी
  13. ये घातों पर घातें देखो
  14. ये ज़िंदगी तो सराबों का सिलसिला सा है
  15. ये धूपछाँव क्या है ये रोज़ोशब क्या है
  16. ये मस्त हुस्न तेरा
  17. ये है निज़ाम तेरा
  18. ये ज़ख़्म मेरा
  19. यक़ीं जिसको ख़ुदा पर है कभी दुख में नहीं रोता

ऊपर

  1. रंग बदलूं कि रोशनी बदलूं
  2. रग-रग के लहू से लिक्खी है
  3. रहती है मंज़िल मेरी मुझसे आगे
  4. रात  की  याद  में  दिन  गुज़ारा  गया
  5. रास्ता किस जगह नहीं होता
  6. राह ख़ुदा की पाई है
  7. राज़ अपने तुमको बताती गयी
  8. रुक गया है कारवाँ  इतवार  कैसे हो गया
  9. रुत बहारों की सुहानी चाहिए
  10. रुलाया था बहुत तुमने, जो मेरे दिल को तोड़ा था
  11. रूठे से ख़ुदाओं को
  12. रोक लो उसे
  13. रोने की हर बात पे
  14. रोशनी के साए में
  15. रोशनी देने इस ज़माने को
  16. रोज़ पढ़ता हूँ भीड़ का चेहरा

ऊपर

  1. लग रहा था कि घर में तन्हा हूँ
  2. लम्हा इक छोटा सा फिर उम्रे दराज़ाँ दे गया
  3. ली गई थी जो परीक्षा वो बड़ी भारी न थी
  4. लुटती है रोज़ प्यार की बारात देखिये
  5. लेकर निगाह-ए-नाज़ के ख़ंजर नए-नए
  6. लोग हसरत से हाथ मलते हैं

ऊपर

  1. वक्त की गहराइयों से
  2. वक्‍़त भी कैसी पहेली दे गया
  3. वतन का खाकर जवाँ हुए हैं
  4. वही अपनापन ...
  5. वही ग़लती दुबारा क्यूँ करे कोई
  6. वाल्मीकि
  7. वो इश्क़ के क़िस्से
  8. वो इश्क़ के क़िस्से
  9. वो चलाये जा रहे दिल पर
  10. वो जो एक दिवाना है
  11. वो ना महलों की ऊँची शान में है
  12. वो परिंदे कहाँ गए
  13. वो बातें तेरी वो फ़साने तेरे
  14. वो लम्हा जो तुमको छूकर जाता है
  15. वो हवा शोख पत्ते उड़ा ले गई
  16. वो ही चला मिटाने नामो-निशां हमारा
  17. वक़्त उड़ता सा चला जाता है
  18. वक़्त के साँचे में ढल कर
  19. वक़्त बहुत ही झूठा निकला

श-ष ऊपर

  1. शमशीर हाथ में हो
  2. शराफ़त का जो गाएगा तराना
  3. शहर में ये कैसा धुँआ हो गया
  4. शायर बहुत हुए हैं जो अख़बार में नहीं
  5. शिकवा गिला मिटाने का त्योहार आ गया

श्र-श ऊपर

ऊपर

  1. सकूनबख़्श नज़ारे ख़रीद लेता है 
  2. सच के लिये
  3. सच को लगती आज गवाही
  4. सनम जबसे पर्दा उठाने लगे हैं
  5. सब खामोश हैं यहाँ कोई आवाज नहीं करता
  6. सबकी सुनना, अपनी करना
  7. सबको  सबकुछ रहबर   नहीं देता
  8. सबसे दिल का हाल न कहना
  9. सबू को दौर में लाओ बहार के दिन हैं
  10. समझौते की कुछ सूरत देखो
  11. सरगोशियाँ हर ओर हैं
  12. सहरा कहीं हयात कहीं दाम आ पड़ा 
  13. सहूलियत की ख़बर
  14. साँप की मानिंद वोह डसती रही
  15. साँस जाने बोझ कैसे...
  16. साथ गर आपका नहीं होता
  17. साथ मेरे रही उम्र भर ज़िंदगी
  18. साथ मेरे हमसफ़र
  19. सामने काली अँधेरी रात गुर्राती रही
  20. साया बनकर साथ चलेंगे
  21. सारे जहाँ में कोई अपना नहीं हमारा
  22. साग़र से लब लगा के बहुत ख़ुश है ज़िन्दगी
  23. सिखाना छोड़, होंठों पर उसी का नाम रहने दे
  24. सिर्फ ख़यालों में न रहा कर
  25. सिर्फ़ ईमान बचा कर मैं चला जाऊँगा
  26. सिला
  27. सीखे नहीं सबक़ भी
  28. सीधी बातें सच्ची बातें
  29. सुख कम हैं, दुःख हज़ार
  30. सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या
  31. सुन मीठे बोल बिका है शायद
  32. सुनो तो मुझे भी ज़रा तुम
  33. सूरज की हर किरन तेरी सूरत पे वार दूँ
  34. सूरत बदल गई कभी
  35. सूर्य से भी पार पाना चाहता है
  36. सो नहीं मैं पाता हूँ
  37. सोच की सीमाओं के बाहर मिले
  38. सफ़र में

ऊपर

  1. हँस के बोला करो बुलाया करो
  2. हँसती गाती तबीयत रखिये
  3. हथेली में सरसों कभी मत उगाना
  4. हम कहीं भी रहें माँ की दुआ साथ रहती है
  5. हम खिलौनों की ख़ातिर तरसते रहे
  6. हम जिए जाएँ लम्हें हर..
  7. हम ने ख़ुश रह के  कमी  देखी है
  8. हम ले के अपना माल जो मेले में आ गए
  9. हम ग़रीबों की कहानी आप से मिलती नहीं
  10. हम ज़िन्दगी के साथ चलते चले गये
  11. हमने    देखे     हैं    कई   रंग   ज़माने   वाले
  12. हमेशा दोष मेरा ही रहा है
  13. हर किसी से न वास्ता रखना
  14. हर कोई कह रहा है दीवाना मुझे
  15. हर चेहरे पर डर दिखता है
  16. हर जगह हर पल तुझे ही ढूँढती रह जाएगी
  17. हर तरफ़ ये मौत का जो ख़ौफ़ है छाया यहाँ
  18. हर दम मेरे पास रहा है
  19. हर सू हर शै में हमको वो दिखते हैं
  20. हसरतों की इमलियाँ
  21. हसीं-घरों में वो शीशे दिखाई देते हैं
  22. हाँ में हाँ कहने की आदत अब नहीं
  23. हाथ पकड़कर अनुज को अपने, जो चलना सिखलाते हैं
  24. हाल
  25. हुई ग़ायब सआदत है
  26. हुज़ूर, आप तो जा पहुँचे आसमानों में
  27. है उजाले का निमंत्रण...
  28. हक़ीक़त है क्या, दिल्लगी जानते हैं?
  29. हज़ार क़िस्से सुना रहे हो

ऊपर

ऊपर

1 ऊपर

2 ऊपर

3 ऊपर

4 ऊपर

5 ऊपर

6 ऊपर

7 ऊपर

8 ऊपर

9 ऊपर